क्या चल रहा है?

16 येलौ कार्ड, चार रेड कार्ड, फुटबॉल वर्ल्ड कप का वह मैच जो खेल नहीं ‘शर्मनाक रिकॉर्ड’ के लिए जाना जाता है

[ad_1]

पुर्तगाल और नेदरलैंड्स के बीच मैच में कई खिलाड़ी घायल हुए थे

पुर्तगाल और नेदरलैंड्स के बीच मैच में कई खिलाड़ी घायल हुए थे

फीफा वर्ल्ड कप 2006 (Fifa World Cup) में पुर्तगाल (Purtgal) और नेदरलैंड्स (Netherlands) के बीच प्री क्वार्टरफाइनल मैच में सबसे ज्यादा येलौ औऱ रेड कार्ड का रिकॉर्ड बना था

नई दिल्ली. फुटबॉल के दिग्गज पेले (Pele) ने एक समय पर इस खेल को ‘खूबसूरत खेल’ कहा था. दुनिया भर में फुटबॉल को लेकर इतन जुनून है जो कई बार मैदान में लड़ाई की शक्ल ले लेता है. ऐसा ही कुछ देखने को मिला फीफा वर्ल्ड कप 2006 (Fifa World Cup 2006) में जिसमें पुर्तगाल (Purtgal) और नेदरलैंड्स (Netherlands) के बीच खेला गया मुकाबला इस टूर्नामेंट के सबसे हिंसक मैचों में शुमार हो गया. इस मैच को ‘मैसकर ऑफ नुरेमबर्ग’ (Massacre Of Nuremberg) कहा जाता है. इस मैच में कुल 16 येलौ कार्ड और चार रेड कार्ड दिखाए गए जो कि एक मैच में सबसे ज्यादा मिलने वाले कार्ड का रिकॉर्ड है.

रोनाल्डो को बनाया गया था निशाना
2006 वर्ल्ड कप (Fifa World Cup) का यह प्री क्वार्टरफाइनल मैच था. दोनों टीमें क्वार्टरफाइनल में जगह बनाने के इरादे से उतरी थी. मैच के दूसरे ही मिनट में नेदरलैंड्स (Netherlands) के मार्क वैन बुमेल (Marc Van Bumel) को येलौ कार्ड दिया गया. इसके बाद नेदरलैंड्स के खालिद बुलाहरोज को फाउल करने के कारण येलौ कार्ड दिया गया. उनके इस फाउल से पुर्तगाल के स्टार रोनाल्डो चोटिल हो गए थे. गेंद को किक करने की कोशिश में उन्होंने रोनाल्डो की जांघ पर जोरदार लात मारी थी. रोनाल्डो का आरोप था कि मैच से उन्हें बाहर रखने के लिए जानबूझकर ऐसा किया गया. दूसरे मिनट में मैदान से बाहर गए बुमेल को गलत तरीके से गिराने के लिए नेदरलैंड्स के मैनिक को येलौ कार्ड दिया गया.

16 येलौ कार्ड और चार रेड कार्ड का रिकॉर्डइसके बाद भी मैच में लगातार खिलाड़ी आपस में भिड़ते रहे. मैच में पुर्तगाल के पहले गोल के बाद उनके मिड फिल्डर कोस्टिंहा को येलौ कार्ड दिया गया. उन्होंने दिग्गज खिलाड़ी फिलिप कोको को टांग अड़ाकर गिराने के लिए येलौ कार्ड दिया गया. इस मुकाबले में लड़ाइयां और येलौ कार्ड ज्यादा थे और फुटबॉल का खेल कम. मैच देखकर ऐसा लग रहा था खिलाड़ी गेंद पर कम और सामन वाले को घायल करने पर ज्यादा ध्यान दे रहे थे. मैच के दूसरे हाफ में जैसे ही पुर्तगाल के डीको ने नेदरलैंड्स के डिफेंडर जॉन हेटिंगा को गिराया अंपायर उन्हें येलौ कार्ड देने पहुंचे, वह कार्ड दे ही रहे थे की ग्राउंड के दूसरी ओर दोनों टीमों के खिलाड़ी आपस में भिड़ गए. खिलाड़ी एक दूसरे को धक्का मारकर गिराने लगे और स्थिति काफी गंभीर हो गई. हालांकि इसके बाद भी मैच में कार्ड का सिलसिला जारी रहा.

गोलकीपर से लेकर डगआउट में बैठे खिलाड़ी भी लड़ाई में शामिल
मैच के 78वें मिनट में नेदरलैंड्स के वेसली स्नेजडर ने पुर्तगाल के पेटिट (Petit) को धक्का देकर गिरा दिया. येलौ कार्ड मिलने के बाद जब स्नेजडर ग्राउंड से बाहर जा रहे थे तो वहां जाते हुए भी वह डगआउट में बैठे पुर्तगाल (Portugal) के कोच और खिलाड़ियों से जा भिड़े. सिर्फ खिलाड़ी ही नहीं बल्कि गोलकीपर भी इस लड़ाई का हिस्सा बने जो डिफेंडर खिलाड़ियों के साथ रफ फाउल कर रहे थे. पुर्तगाल के गोलकीपर रिकार्डो को नेदरलैंड्स के नोनू वालेंत के साथ रफ फाउल करने के लिए येलौ कार्ड दिया गया. वहीं मैच के अंत तक नेदरलैंड्स के गोलकीपर एडविन वान डेर सार (Edwin Dan Sar) को भी येलौ कार्ड दिया गया.

पुर्तगाल ने 1-0 से जीता था मैच
यह मैच अंत में पुर्तगाल ने 1-0 से अपने नाम किया. पुर्तगाल इसके बाद क्वार्टरफाइनल में इंग्लैंड को हराकर सेमीफाइनल में पहुंचा था लेकिन उनका सफर वहीं खत्म हो गया. इस मैच के बाद फीफा प्रेसीडेंट सेप ब्लेटर ने इस मुकाबले के रेफरी को जमकर सुनाया था. उन्होंने कहा था कि मैच में इतनी खराब अंपयारिंग के लिए उन्हें खुद को ही यैलो कार्ड दे दिया जाना चाहिए. हालांकि बाद में उन्होंने माफी मांगी.

Photos: सोशल मीडिया पर काफी पॉपुलर हैं सचिन तेंदुलकर की बेटी सारा, लंदन से किया मेडिसिन में ग्रेजुएशन

Video:ट्रेनिंग के लिए तैयार हुए डेविड वॉर्नर,धनुष के कोलावरी डी पर बताया कैसे?






[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Recent Posts

Covid – 19

Live COVID-19 statistics for
India
Confirmed
33,504,534
Recovered
0
Deaths
445,385
Last updated: 2 minutes ago

Live Tv

Advertisement

rashifal