क्या चल रहा है?

कप्तानी करने के लिए ही पैदा हुए हैं अजिंक्य रहाणे, ऑस्ट्रेलियाई दिग्गज इयान चैपल ने कही बड़ी बात

[ad_1]

इयान चैपल ने अजिंक्य रहाणे को  साहसी और होशियार कप्तान बताया है (PIC : AP)

इयान चैपल ने अजिंक्य रहाणे को साहसी और होशियार कप्तान बताया है (PIC : AP)

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व खिलाड़ी इयान चैपल (Ian Chappell) ने कहा है कि अजिंक्य रहाणे (Ajinkya Rahane) साहसी और होशियार कप्तान है. हालांकि इन दो महत्वपूर्ण गुणों के अलावा उनके लीडरशिप में और भी कुछ है.

नई दिल्ली. भारतीय टीम ने जिस तरह से मेलबर्न टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया को हराकर बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी में वापसी की है, उससे अजिंक्य रहाणे की कप्तानी का कायल हर कोई हो गया है. एडिलेड में मिली करारी हार के बाद रहाणे ने दूसरे टेस्ट मैच में फ्रंट से टीम इंडिया को लीड किया और शतकीय पारी भी खेली. ऑस्ट्रेलिया के पूर्व दिग्गज कप्तान इयान चैपल ने भी रहाणे की तारीफ करते हुए उन्हें जन्मजात नेतृत्वकर्ता बताया है. चैपल ने मेलबर्न टेस्ट में टीम इंडिया की जीत का श्रेय रहाणे की चतुराई से भरी साहसिक कप्तानी को दिया है.

साहसी कप्तान हैं अजिंक्य रहाणे
चैपल ने ईएसपीएनक्रिकइन्फो में अपने कॉलम में लिखा, “इसमें कोई हैरानी नहीं कि अजिंक्य रहाणे ने मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड पर शानदार तरीके से भारत की अगुवाई की. जिस किसी ने भी 2017 में धर्मशाला में उन्हें कप्तानी करते हुए देखा होगा वह पहचान गया होगा कि उनका जन्म क्रिकेट टीमों का नेतृत्व करने के लिये हुआ है.” धर्मशाला में 2017 में खेले गये टेस्ट मैच में भारत ने चौथे टेस्ट मैच में आठ विकेट से जीत हासिल करके चार मैचों की सीरीज 2-1 से जीती थी. भारत ने तब भी लक्ष्य का पीछा किया था और रहाणे 38 रन बनाकर नाबाद रहे थे.

चैपल ने लिखा, “एमसीजी में खेले गए मैच और 2017 के मैच में काफी समानताएं हैं. पहला यह उन्हीं दो बेहद प्रतिस्पर्धी टीमों के बीच खेला गया था, दूसरा रविंद्र जडेजा ने पहली पारी में निचले क्रम में उपयोगी योगदान दिया था और तीसरा रहाणे ने कम लक्ष्य के सामने दबाव वाली परिस्थितियों में आक्रामक बल्लेबाजी करके जरूरी रन जुटाए.”उन्होंने कहा, “रहाणे ने धर्मशाला में तब मेरा ध्यान अपनी तरफ खींचा था जब उन्होंने अपना पहला टेस्ट मैच खेल रहे बाएं हाथ के कलाई के स्पिनर कुलदीप यादव को गेंद सौंपी जबकि तब डेविड वॉर्नर और स्टीव स्मिथ ने शतकीय साझेदारी कर रखी थी. मुझे लगता है कि यह साहसिक कदम था और यह बेहद अच्छा साबित हुआ. यादव ने जल्द ही वॉर्नर का विकेट लिया जिससे ऑस्ट्रेलियाई पारी लड़खड़ा गई थी.

शांत बने रहते हैं अजिंक्य रहाणे
चैपल ने लिखा है, “यह कप्तान के रूप में रहाणे की सफलता का हिस्सा है. वह साहसी और होशियार कप्तान है. हालांकि इन दो महत्वपूर्ण गुणों के अलावा उनके नेतृत्व में और भी कुछ है. जब चीजें आसानी से हाथ से निकल सकती हैं वह तब भी शांत बने रहते हैं.”

यह भी पढ़ें:

India vs Australia: स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री का विवादित बयान, कहा-ब्रिस्‍बेन नहीं आना चाहती टीम इंडिया तो न आएं

IND vs AUS: सिडनी रवाना होने से ठीक पहले अभ्‍यास नहीं कर पाया भारत, दोनों टीमों की बढ़ी चिंता

इस दिग्गज क्रिकेटर ने कहा, “उन्होंने अपने साथियों से सम्मान हासिल किया है जो कि अच्छी कप्तानी का महत्वपूर्ण पहलू होता है. और वह जरूरत के समय रन बनाता है जिससे टीम में उनका सम्मान बढ़ जाता है.” उन्होंने कहा कि कप्तान ने तब शतक लगाया जबकि भारत आसानी से 2-0 से पिछड़ सकता था और यह उनका प्रदर्शन था जिसने उनकी टीम को यह भरोसा दिलाया कि जीत दर्ज की जा सकती है. चैपल ने कहा, “मुंबई के पूर्व निवासी ने मुझे बताया कि उनकी पत्नी ने होंठो की गति से अनुमान लगाकर बताया कि रहाणे ने एमसीजी पर शतक पूरा करने के बाद ‘कम ऑन इंडिया’ कहा था.






[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Recent Posts

Covid – 19

Live COVID-19 statistics for
India
Confirmed
33,478,419
Recovered
0
Deaths
445,133
Last updated: 1 minute ago

Live Tv

Advertisement

rashifal