क्या चल रहा है?

16 साल पहले आज के ही दिन धोनी ने किया था वनडे डेब्यू, जीरो पर हो गए थे रन आउट, देखें VIDEO

[ad_1]

महेंद्र सिंह अपने वनडे डेब्यू मैच में जीरो पर रन आउट हुए थे.

महेंद्र सिंह अपने वनडे डेब्यू मैच में जीरो पर रन आउट हुए थे.

On This Day in 2004, MS Dhoni Makes his India Debut: 16 साल पहले आज के ही दिन महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) ने इंटरनेशनल क्रिकेट में डेब्यू किया था. हालांकि वह अपनी पारी में सिर्फ जीरो रन पर आउट हो गए थे.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    December 23, 2020, 12:14 PM IST

नई दिल्ली. वनडे क्रिकेट (One Day cricket) के महानतम खिलाड़ियों में से एक महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) ने आज के दिन 16 साल पहले इंटरनेशनल क्रिकेट में डेब्यू किया था. क्रिकेट के सर्वश्रेष्ठ कप्तानों में शुमार किए जाने धोनी (Dhoni) की यात्रा की शुरुआत सुखद नहीं रही थी. टीम इंडिया के कैप्टन कूल कहे जाने धोनी ने 23 दिसंबर 2004 को चटगांव में बांग्लादेश के खिलाफ अपना पहला मैच खेला और वह पहली ही गेंद पर बिना खाता खोले ही रन आउट हो गए. इसे संयोग ही कहा जा सकता है कि मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर भी अपनी पहली वनडे पारी में शून्य पर भी आउट हुए थे लेकिन इसके बाद इन दोनों खिलाड़ियों ने क्रिकेट जगत में अपना नाम अमर कर लिया. बांग्लादेश दौरे पर धोनी को मिली नाकामी के बावजूद तत्कालीन कप्तान सौरव गांगुली ने उन्हें एक और मौका दिया. धोनी ने इसका पूरा फायदा उठाते हुए सिर्फ अपने 5वें वनडे मैच में पाकिस्तान के खिलाफ 183 रनों का स्कोर बनाया.

धोनी ने बनाया भारत को विश्वविजेता
साल 2007 के वर्ल्ड कप में भारतीय टीम के पहले ही चरण में बाहर होने के बाद धोनी को टी-20 वर्ल्ड कप में कप्तानी का मौका मिला. उन्होंने भारतीय फैंस को निराश नहीं करते हुए पहले टी-20 वर्ल्ड कप (2007) में भारत को विजयी बनाया. इसके बाद धोनी हर रोज अपने कप्तानी में नए आयाम जोड़ते चले गए. उनकी कप्तानी में ही पहली बार भारतीय टीम टेस्ट रैंकिंग में नंबर वन टीम बनी. भारत में खेले गए वर्ल्ड कप 2011 में उन्होंने 28 साल बाद दोबारा टीम इंडिया को विश्वविजेता बनाया. इसके अलावा 2013 में इंग्लैंड में खेले गए चैंपिंयस ट्रॉफी में भी उन्होंने अपनी कप्तानी में भारत को जीत दिलाई. धोनी एक मात्र खिलाड़ी हैं जिन्होंने अपनी कप्तानी में टी-20 वर्ल्ड कप, वनडे वर्ल्ड कप और चैंपियंस ट्रॉफी का खिताब अपने नाम किया है.

धोनी ने विराट कोहली के लिए साल 2014 में पहले टेस्ट टीम फिर 2017 में वनडे टीम की कप्तानी छोड़ दी. इस साल 15 अगस्त 2020 को धोनी ने इंटरनेशनल क्रिकेट से संन्यास की घोषणा कर दी. उन्होंने अपना आखिरी वनडे मुकाबला वर्ल्ड कप 2019 के सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड के खिलाफ खेला था. इस मुकाबले में वह 50 रन जड़ने के बाद रन आउट हुए थे.

छोटे शहर से निकलकर पूरी दुनिया पर छाए
झारखंड की राजधानी रांची में रहने वाले धोनी का पहला प्यार फुटबॉल था. वह अपने स्थानीय स्कूल में गोलकीपर की भूमिका निभाते थे. धोनी के स्कूल के कोच ने केशव रंजन बनर्जी के एक फैसले ने उनकी तकदीर बदल दी. छोटे से शहर से आने वाले धोनी पहले बड़े सुपरस्टार बने जिन्होंने दिल्ली, मुंबई, बेंगुलुरु और चंडीगढ़ के एकाधिकार को तोड़ा.

यह भी पढ़ें:

गौतम गंभीर ने याद किया धोनी को लेकर अपना पहला इंप्रेशन, बोले- वह अद्भुत थे

मेलबर्न टेस्ट से पहले ऑस्ट्रेलियाई टीम को लगा तगड़ा झटका, दो दिग्गज खिलाड़ी दूसरे मैच से बाहर

वनडे में भारत के 5वें सबसे सफल क्रिकेटर
महेंद्र सिंह धोनी ने 350 वनडे मैचों में 50.57 की औसत से 10773 रन बनाए हैं. वह वनडे क्रिकेट इतिहास में सबसे ज्यादा रन बनाने के मामले में 11वें नंबर पर हैं. भारत की बात करें तो उनसे ज्यादा रन सिर्फ सचिन तेंदुलकर, विराट कोहली, सौरभ गांगुली और राहुल द्रविड़ ने बनाए हैं. कोहली (59.31 की औसत) के अलावा धोनी ही एक मात्र बल्लेबाज हैं जिन्होंने 50 की औसत से 10 हजार से ज्यादा रन बनाए हैं.



[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Recent Posts

Covid – 19

Live COVID-19 statistics for
India
Confirmed
29,823,546
Recovered
28,678,390
Deaths
385,137
Last updated: 7 minutes ago

Live Tv

Advertisement

rashifal